कोरोना के मोर्चे पर छत्तीसगढ़ बदतर स्थिति में शुमार हुआ और ऐसे हालात में प्रदेश सरकार ही आइसोलेट हो गई : संजय श्रीवास्तव

रायपुर – 3 सितम्बर 2020 – भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कोरोना संक्रमितों के इलाज में प्रदेश सरकार की कार्यप्रणाली पर निशाना साधते हुए कहा है कि जो प्रदेश सरकार मार्च-अप्रैल में कोरोना के मामले में छत्तीसगढ़ की तुलना न्यूज़ीलैंड से करती नहीं थक रही थी, आज उसी सरकार के निठल्लेपन के चलते छत्तीसगढ़ देश में सबसे बदतर स्थिति के राज्यों में शुमार हो चला है और ऐसे हालात में प्रदेश सरकार ही आइसोलेट हो गई है! श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए प्रदेश सरकार के पास अब भी न तो कोई सुस्पष्ट और सुविचारित कार्ययोजना नहीं है और न ही इस संकट को देखने-समझने वाला कोई है।
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्रीवास्तव ने कहा कि जब प्रदेश में कोरोना का संक्रमण अपने शुरुआती दौर में था तब इसे लेकर सर्वे हो रहा था, पर अब जबकि कोरोना का संकट अपने चरम की ओर है, सर्वे का काम भी ठप पड़ा हुआ है। प्रदेश सरकार ने अब जाकर प्रदेश में कोरोना उपचार केंद्रों में 10 हज़ार बेड (बिस्तर) की व्यवस्था करने को कहा है, लेकिन प्रदेश सरकार की नासमझी की मिसाल यह है कि इतने बेड के लिए 30 हज़ार पैरामेडिकल स्टाफ की व्यवस्था कैसे होगी, इस पर सरकार चुप्पी साधे बैठी है।

श्रीवास्तव ने इस बात के लिए भी प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लिया है कि जब प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को सितंबर तक प्रदेश में कोरोना के मरीजों की संख्या बेहिसाब बढ़ने की आशंका थी तो प्रदेश सरकार ने पहले से ही इस दिशा में तैयारी क्यों नहीं की? क्या प्रदेश सरकार इस तरह घोषणाएँ करके सिर्फ़ जुबानी जमाख़र्च कर रही है?
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्रीवास्तव ने हैरत जताई कि प्रदेश सरकार ग़रीब-मज़दूर, आदिवासियों और आम मध्यमवर्गीय लोगों के साथ निजी अस्पतालों में मची लूट-खसोट पर भी अंध-मूक-बधिर की तरह आचरण करके लोगों को कंगाल बनाने पर उतारू हो चली है। आज जब प्रदेश कोरोना संकट के विस्फोटक दौर में पहुँच गया है, तब प्रदेश को इस संकट से उबारने और लोगों को राहत पहुँचाने के ईंमानदार प्रयासों के बजाय प्रदेश सरकार दीग़र मुद्दों पर प्रलाप करने में मशगूल है।

श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश सरकार ने छत्तीसगढ़ को झूठे दिलासे देकर कोरोना की अंधी गली में धकेल दिया है और अब हाथ खड़े करके लोगों को भगवान भरोसे छोड़ दिया है। प्रदेश सरकार का यह ग़ैर-ज़िम्मेदाराना रवैया है और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल यह न भूलें कि उनकी सरकार को कोरोना संक्रमण फैलाने के लिए प्रदेश कभी माफ़ नहीं करेगा।
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्रीवास्तव ने प्रदेश सरकार के तथाकथित और महिमामंडित किए गए ‘स्वयंभू कोरोना प्लेयर्स’ पर तंज कसते हुए कहा कि आज प्रदेश के इस आपदा काल में वे तमाम मंत्रीगण मुँह छिपाए बैठे हैं। प्रदेश सरकार कोरोना के नाम पर लोगों की पाई-पाई लुटवा रही है, ज़मीन-ज़ायदाद और गहने बिकवाकर उन्हें कंगाली के मुहाने पर ला खड़ा कर चुकी है लेकिन इस लूटमार को रोकने के लिए आगे नहीं आ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.