महिषासुर दानव का रूप धारण कर लेती है, तब धरा पर राजयोग से शिव की प्राप्त शक्तियों से उसका होता है सर्वनाश, देवियों की झांकी बनी आकर्षण का केंद्र,

 

रायपुर/भिलाई। मानव जीवन में जब ईर्ष्या,लालच,नशा,लोभ जैसी मन की कलुषित वृत्तिययां महिषासुर दानव का रूप धारण कर लेती है, तब धरा पर राजयोग से शिव की प्राप्त शक्तियों से उसका सर्वनाश होता है। यह सिर्फ पौराणिक कथा नहीं अपितू कलयुग रूपी घोर अंधकार की वर्तमान परिस्थितियां है। इससे आज का मानव ग्रसित है। पीस ऑडिटोरियम ग्राउंड सेक्टर 7 में
यह सुंदर संदेश देती लाइट एंड साउंड के सुंदर समायोजन से अद्भुत दिव्य अलौकिक झांकी। इसमे मूर्ति रूप में प्रकट होती चैतन्य देवियों को श्रद्धालु देख दर्शन लाभ प्राप्त कर रहे हैं। इसका उद्घाटन राकेश कुमार मिश्रा ईडी एमएम भिलाई इस्पात संयंत्र भिलाई सेवाकेन्द्रों की निदेशिका ब्रह्माकुमारी आशा दीदी,श्रीमती मिश्रा और बी के प्राची ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। झांकी में धरती के गर्भ से अष्ट भुजाधारी मां दुर्गा प्रकट होकर असुर का वध करती है। गुफाओं से मां काली ,उमा देवी का, कमलासनधारी मां लक्ष्मी का कमल खिलने से, हंसवाहिनी मां सरस्वती का विशाल अंतरिक्ष में बने सूर्य, पहाड़ों ,गुफाओं से प्रकट होने के दिव्य एवं अलौकिक दर्शन से भरपूर हो रहे है श्रद्धालु। झांकी के प्रारम्भ में नवरात्रि रूपी कन्या के रूप में स्वयं रात्रि सुनाए अपनी कहानी से प्रारम्भ यह झांकी 2 मिनट राजयोग मेडिटेशन से स्व परिवर्तन को प्रेरित करते सम्पन्न होती है। झांकी में प्रवेश एवं निकास के लिए दो अलग मार्ग बनाए गए हैं। सभी को नवरात्रि में 16 अक्टूबर से प्रारम्भ तनावमुक्त नवजीवन शांत मन जीवन की शक्ति राजयोग शिविर का निमंत्रण फरिश्तों की ओर से दिया जा रहा है। जो कि प्रातः एवं संध्या को हिंदी एवं इंग्लिश में भी रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *