साईं बाबा नेत्र चिकित्सालय भिलाई को भी मिला गुणवत्तापूर्ण देखभाल और सुरक्षा के लिये एनएबीएच एंट्री लेवल सर्टिफिकेट

 

रायपुर – साईं बाबा नेत्र चिकित्सालय भिलाई के खाते में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि दर्ज हुई है। एनएबीएच ने साईं बाबा आई हॉस्पिटल को सुरक्षा व गुणवत्तापूर्ण देखभाल के लिये एंट्री लेवल एक्रेडिटेशन सर्टिफिकेट प्रदान किया है। यह प्रमाण पत्र देश के प्रतिष्ठित संगठन राष्ट्रीय अस्पताल एवं हेल्थकेयर प्रमाणन बोर्ड(NABH) द्वारा प्रदान किया गया है।

अस्पतालों और स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के लिए नेशनल एक्रेडिटेशन बोर्ड (एनएबीएच) भारतीय गुणवत्ता परिषद का एक घटक बोर्ड है। इसे स्वास्थ्य सेवा संगठनों के लिए मान्यता कार्यक्रम स्थापित करने और संचालित करने के लिए स्थापित किया गया है। हाल ही में साईं बाबा वूमेन्स हॉस्पिटल, रायपुर को एनएबीएच द्वारा एंट्री लेवल एक्रेडिटेशन सर्टिफिकेट प्रदान किया गया था।

साईं बाबा नेत्र चिकित्सालय के संचालक डॉ. आशीष महोबिया ने इस संबंध में कहा कि उन्होंने सुरक्षा के मानकों और गुणवत्तापूर्ण उपचार के लिये लगातार अस्पताल को अपडेट व अपग्रेड किया है।
“समय साथ ज़रूरतें बदलती जाती हैं, उदाहरण के लिये, अभी कोविड में लॉकडाउन के दौरान सुरक्षा के लिये हमने कई स्तर पर सुरक्षा के उपाय किये, सभी दिशानिर्देशों का पालन किया।

डबल्यूएचओ व सरकार द्वारा जारी गाईडलाइन्स का पालन करते हुए गुणवत्तापूर्ण उपचार सुविधा हमने मरीज़ों को दी।”
साईं बाबा नेत्र चिकित्सालय नेत्र चिकित्सा के क्षेत्र में आधुनिकतम चिकित्सा सुविधाओं से लैस संस्थान है। मोतियाबिंद जैसी आम लेकिन तकलीफदेह रोग के उपचार के लिये दर्दरहित आधुनिक चिकित्सा पद्धति का प्रयोग किया जाता है।

इसके अलावा नेत्र की अन्य कई बीमारियों के गुणवत्तापूर्ण उपचार व देखभाल के लिये साईं बाबा अस्पताल में उत्कृष्ट सुविधाएँ उपलब्ध हैं।
नेत्र रोग के लिये रायपुर के साथ-साथ भिलाई स्थित साईं बाबा आई हॉस्पिटल ने पूरे छत्तीसगढ़ में अपनी पहचान बनाई है। दूसरी तरफ साईं बाबा वूमन्स हॉस्पिटल का भी स्त्री रोग के गुणवत्तापूर्ण उपचार व सुरक्षित प्रसव के लिये रायपुर में बड़ा नाम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *